परिक्रमा क्यों करते हैं | Parikrama kyu karte hai

परिक्रमा क्यों की जाती है

parikrama ka arth
parikrama kyu karte hai


मंदिर की परिक्रमा क्यों करते हैं | mandir ki parikrama kyu karte hai

अधिकतर आप सब ने देखा होगा कि लोग पूजा पाठ के समय भगवान की परिक्रमा करते हैं, या किसी वृक्ष की परिक्रमा करते हैं, या किसी देवी देवता की परिक्रमा करते हैं। इसके पीछे बहुत बड़ा वैज्ञानिक दृष्टिकोण हिंदू धर्म शास्त्र के अनुसार बताया गया है, भगवान की परिक्रमा करना या किसी पेड़ पौधे की परिक्रमा करना या किसी मूर्ति की परिक्रमा करना सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने का कार्य करता है।

 

जब हम किसी भगवान की परिक्रमा करते हैं, तो हम पूर्णता भगवान को अपना तन मन और आत्मा को सौंप देते हैं, हम भगवान के अधीन हो जाते हैं, अर्थात हम जिस की परिक्रमा करते हैं, वह ऊर्जा का स्रोत होता है, वह हमारी सोच और समस्त शक्तियों से परे होता है, इसी कारण जब हम उसकी परिक्रमा करते हैं, तो हमें सकारात्मक फल प्राप्त होता है, क्योंकि हम वैसे शक्ति से जुड़ जाते है। जिसका हमें सकारत्मक फल प्राप्त होता है।

भगवान की परिक्रमा क्यों करते हैं | bhagwan ki parikrama kyu karte hai

भगवान की परिक्रमा करते समय मन को एकाग्र चित्त रखना चाहिए, यदि आप किसी देवी देवता की परिक्रमा करते हैं, तो उस समय आप उस देवी देवता के मंत्रों का उच्चारण कर सकते हैं, पर आप का ध्यान वही केंद्रित होना चाहिए, इससे आप को सकारात्मक रूप से अधिक लाभ प्राप्त होगा, बल्कि आप आन्दित महसूस करेंगे।

 

पूजा के बाद परिक्रमा क्यों करते हैं | puja ke samay parikrama kyu karte hai

अगर हम इसके वैज्ञानिक दृष्टिकोण को समझने की कोशिश करें, तो हिंदू धर्म शास्त्र के अनुसार इस का दर्शन बहुत गहरा है, आज के वैज्ञानिक दृष्टिकोण में जैसे कि एक परमाणु में प्रोटॉन न्यूट्रॉन और इलेक्ट्रॉन होता है, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन परमाणु की नाभि में स्थित होता है, और मुक्त इलेक्ट्रॉन परमाणु के चारों ओर गतिमान होता है, अर्थात चक्कर लगते रहता है, जब तक उस मुक्त इलेक्ट्रान को कोई सुयोग्य तत्व की प्राप्ति न हो जाये, जब वह मुक्त इलेक्ट्रॉन किसी आवश्यक तत्व धातु के संपर्क में आता है, तो वह  पूर्णता को प्राप्त कर जाता है, वैसे ही अगर हम भगवान रूपी तत्व के सानिध्य में आते हैं, तो हम पूर्णता को प्राप्त कर जाते हैं या हमारे अंदर की नकारात्मक सोच सकारात्मक ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती है, और सकारात्मक ऊर्जा भी अत्यधिक सकारात्मक ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती हैं, हमारे अंदर  इलेक्ट्रोंस है वह ईश्वर रूपी तत्व से मिलकर पूर्णता को हासिल करता है, जिससे हमारे अंदर विश्वास और साहस जैसे गुणों का विकास होता है, और हम बड़े से बड़े कार्य को आसानी से कर पाते हैं।

 

हिंदू धर्म शास्त्र हमेशा जीवन को सकारात्मक दिशा की ओर बढ़ाने में मदद करता है, आज अनेक धर्मों में परिक्रमा को विशेष स्थान दिया जाता है, जैसे बौद्ध धर्म में परिक्रमा को महत्व दिया जाता है, सिख धर्म में भी परिक्रमा को महत्व दिया जाता है, जैन धर्म में परिक्रमा को विशेष महत्व दिया गया है, मुस्लिम धर्म में भी परिक्रमा को विशेष महत्व दिया जाता है, अनेक ऐसे धर्म है, जिसमें परिक्रमा को विशेष महत्व दिया गया है, इसके पीछे का कारण ईश्वरी तत्व से जोड़ना ही है, जिससे मनुष्य के जीवन का उद्धार हो सके। 

धन्यवाद

Previous
Next Post »

इस ब्लॉग में आप सभी का स्वागत है, इस ब्लॉग में सकारत्मक प्रेरणा,अध्यात्म,वास्तु, सपनों के बारे में विस्तार से जानकारी दिया जाता है। अगर आपको अपने सपने का मतलब नहीं मिलता है। तो आप यहाँ सपनों से संबंधित कमेंट कर सकते है। अपना सवाल पूछ सकते है। आपके प्रश्नों का उत्तर देने का मैं जरूर कोशिश करुगा। कोई गलत कमेंट न करे आप सभी से प्राथर्ना है। अच्छा वातावरण हमेशा सकारत्मक सोच को उतपन्न करता है। और इसे खुशी मिलती है। तभी व्यक्ति का उन्नति होता है, और व्यक्तित्व बढ़ाता है। अपनी राय जरूर शेयर करे। धन्यवाद्। ... ConversionConversion EmoticonEmoticon

सपने में नकली पैसा देखने का 11 मतलब | sapne mein fake money dekhne ka matlab

सपने में नकली पैसा देखने से क्या होता है | sapne mein fake money se kya hota hai सपने में नकली नोट देखना सपने में नकली नोट देखना |  sapn...